Never hurt pride of help seeker

गरज आपनी आप सों, रहिमन कही न जाय.
जैसे कुल की कुलवधू, पर घर जात लजाय.

Hindi Meaning (हिन्दी अर्थ):

स्वाभिमानी व्यक्ति अपने घनिष्ठ मित्र या सम्बन्धी से भी जरुरत पड़ने पर कुछ मांग (कह) नहीं पाते. जिस प्रकार घर की बहू (कुलवधू) को किसी दूसरे के घर जाने में लज्जा (शर्म) महसूस होती है.

भावार्थ:

कोई आपसे कुछ मांगे (याचना करे), उससे बेहतर यह है कि स्वयं ही आगे बढ़कर याचक (माँगने वाले) की सहायता कर दी जाए. इससे याचक और सहायक दोनों का बड़प्पन रह जाता है.

English Phonetic:

Garaj aapni ap soun, Rahiman kahi na jaay.

Jaise kul ki kulvadhoo, par ghar jaat jajaay.

English Meaning:

A person of self-pride (self-esteem) even in dire need, hesitates to seek support from his closest friend or relative. Like newly wedded bride of the family, feel shy in going to anyone’s house.

Deep Meaning:

Its better that we help a person on our own before he asks for help from us. This way, pride of both seeker and helper remains intact (unhurt).